नई दिल्ली: कोरोना वायरस की महामारी का असर म्यूचुअल फंडों में निवेश पर भी पड़ा है. सिस्टमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान SIP के जरिए म्यूचुअल फंडों में होने वाला निवेश जून में गिर कर 8,123 करोड़ रुपये रहा. यह पिछले 11 महीने में सबसे कम है.

कोरोना की महामारी के चलते अनिश्चितता का माहौल है. इसके चलते शेयर बाजारों में भारी उतार-चढ़ाव हैं. हालांकि, यह लगातार 18वां महीना था, जब सिप में निवेश 8,000 करोड़ रुपये से ऊपर बना रहा. भारतीय म्यूचुअल फंड संघ (एम्फी) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक म्यूचुअल फंड उद्योग ने पिछले महीने SIP रूट से 8,123 करोड़ रुपये जुटाए, जो अप्रैल में 8,376 करोड़ रुपये के मुकाबले कम था.

पिछले साल मई में SIP के जरिए 8,183 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था. एम्फी के आंकड़ों के मुताबिक, मई 2020 में SIP निवेश, जून 2019 के बाद सबसे कम था.
देश के सबसे पुराने Bombay Stock Exchange ने अपने म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन प्लेटफॉर्म Mutual Funds पर एक नई सुविधा की शुरुआत की है. अब इसके जरिए आप कुछ महीने तक अपने SIP को रोक सकते हो. कोरोना की महामारी को देखते हुए यह सुविधा शुरू की गई है.
एसआईपी के जरिए छोटे निवेश को करोड़ो में बदलने का मौका मिलता है- SIP सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान आपको हर महीने एक निश्चित रकम को आपकी पसंदीदा Mutual Fund स्कीम में डालने का अवसर देता है. यह आमतौर पर इक्विटी म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में शुरू किया जाता है.